“कहती हुई यों उत्तरा के नेत्र जल से भर गए। हिम के कणों से पूर्ण मानो हो गए पंकज नए।

By exam_gyan at 17 days ago • 0 collector • 5 pageviews

अतिशयोक्ति

मानवीकरण

संदेह

उत्प्रेक्षा

Requires Login

Log in
Information Bar
Loading...