नदियाँ जिनकी यशधारा-सी। बहती हैं अब भी निशि-वासर।।

By exam_gyan at 17 days ago • 0 collector • 5 pageviews

यमक

उपमा

रुपक

श्लेष

Requires Login

Log in
Information Bar
Loading...