दिवसावसान का समय, मेघमय आसमान से उतर रही है। वह संध्या-सुन्दरी परी-सी, धीरे-धीरे-धीरे।।

By exam_gyan at 17 days ago • 0 collector • 4 pageviews

अनुप्रास

उपमा

वक्रोक्ति

अन्योक्ति

Requires Login

Log in
Information Bar
Loading...