जा तन की झाई परे श्याम हरित दुति होय

By exam_gyan at 17 days ago • 0 collector • 5 pageviews

अतिशयोक्ति

श्लेष

विभावना

कोई नहीं

Requires Login

Log in
Information Bar
Loading...