कल कानन कुंडल मोर पखा,उर पै बनमाल विराजत है

By exam_gyan at 18 days ago • 0 collector • 30 pageviews

अनुप्रास

विशेषोक्ति

विभावना

वक्रोक्ति

Requires Login

Log in
Information Bar
Loading...