नहिं पराग नहिं मधुर मधु नहिं विकास यहि काल। अली कली में ही बिन्ध्यो आगे कौन हवाल।

By exam_gyan at 18 days ago • 0 collector • 5 pageviews

अन्योक्ति

अनुप्रास

विभावना

यमक

Requires Login

Log in
Information Bar
Loading...